मोहाली के कुरडा गांव में बन रही आधुनिक जेल का ग्रामीणों ने किया विरोध

  • – ग्रामीणों की बढ़ रही चिंता, कहा कि जेल बनने से जमीन के रेट गिरने से रोजगार भी हो जाएगा खत्म


मोहाली,

मोहाली के कुरडा गांव में बन रही आधुनिक जेल का ग्रामीणों ने विरोध शुरू कर दिया है। ग्रामीणों का कहना है कि गांव में जेल बनने से उनकी जमीन के रेट कम हो जाएंगे और दूसरी तरफ उनका रोजगार भी खत्म हो जाएगा। गांव कुरडा की ग्राम पंचायत ने गांव में जेल नहीं बनने को लेकर बीडीपीओ व डीडीपीओ को लिखित शिकायत दी है, जिन्होंने सरकार द्वारा शुरू किए गए इस प्रोजेक्ट की कड़ी निंदा की है।
इस मौके पर ब्लाक प्रधान मुख्तियार सिंह, नंबरदार जगदीश सिंह, सरपंच दविंदर सिंह, पंच हाकम सिंह, पूर्व सरपंच छज्जा सिंह, अजैब कौर और मंजीत कौर ने बताया कि उनके गांव कुरडा में साढ़े 17 एकड़ (140 कनाल 4 मरला) शामलात जमीन है , जहां पंजाब सरकार द्वारा आधुनिक जेल बनाई जा रही है।

इस पर गांव के लोगों ने आपत्ति जताई है, जिनका कहना है कि सबसे पहले यह जेल गांव के काफी करीब बन रही है, दूसरी यह जमीन पशु चराने योग है। उन्होंने कहा कि उनके गांव से रोजाना 24 सौ लीटर दूध की आपूर्ति होती है। इस जमीन पर जेल बनने से उनके दुधारू पशुओं के चारे की समस्या बढ़ जाएगी और उनका रोजगार छिन जाएगा। इतना ही नहीं उन्होंने बताया कि उनके गांव में 5-5 मरला प्लॉट हैं और उनमें रहने वाले लोगों ने इसका विरोध भी किया है।

इसके अलवा गांव सेखन माजरा की ग्राम पंचायत ने भी इस पर आपत्ति जताई है। उनका कहना हैं कि जहां जेल बननी है, वहां गांव के किसानों की जमीन उसकी दीवार के साथ लगती जिससे उनकी जमीन का रेट कम हो जाएगा। उन्होंने कहा कि यह प्रोजेक्ट कांग्रेस सरकार के दौरान लाया गया था। उन्होंने कहा कि दोनों गांवों की ग्राम पंचायत ने सर्वसम्मति से प्रस्ताव पास कर बीडीपीओ को दे दिया था, लेकिन उससे पहले ही विधानसभा ने कुरडा गांव में बनने वाली जेल को मंजूरी दे दी थी। उन्होंने सरकार से मांग की है कि इस जेल को दूसरी जगह बनाया जाए। इस मौके गुरप्रीत सिंह सेखनमाजरा, कमलजीत सिंह, गुरदीप सिंह, मनजिंदर सिंह, गुलजार सिंह, रणजीत सिंह, रूपिंदर सिंह, जगजीत सिंह भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *